Christmas Essay in hindi – क्रिसमस पर हिंदी निबंध

Christmas Essay in hindi

 Christmas Essay in hindi : ख्रिश्चन समुदाय के लोगों का सबसे बड़ा त्यौहार है क्रिसमस। त्यौहार के पहले १५ दिन से ही इसाई समुदाय के लोग तैयारी में जुट जाते है। 

घर की सफाई की जाती है।  नए कपड़ों की खरीदारी तथा अनेक प्रकार के व्यंजन भी बनाये जाते है। 

ये त्यौहार हर साल ठंडी के मौसम में २५ दिसंबर को मनाया जाता है। इस दिन जीसस क्रिस्ट का जन्म हुआ था इसलिए इस त्यौहार को बडे धूमधाम  मनाया जाता है। इस त्यौहार को ‘बड़ा दिन’ भी कहते है।

Also Read : Essay on Diwali in hindi

इस अवसर पर सारे स्कूल, कॉलेजेस को लगभग एक हफ्ता छुट्टी रहती है।

क्रिसमस के लगभग सात दिन पहले से ही चर्च को सजाया जाता है तथा चर्च में विभिन्न कार्यक्रम शुरू हो जाते है।  ये कार्यक्रम नए वर्ष के आरम्भ तक चलते है।

क्रिसमस की पूर्व रात्रि को चर्च में प्रार्थना सभा आयोजित की जाती है। ये सभा रात के १२ बजे तक चलती है। १२ बजे सभी लोग एक दूसरे को क्रिसमस की बधाई देते है।

क्रिसमस के दिन बड़ी भागदौड़ रहती है।  सुबह सुबह प्रार्थनाघरों में विशेष प्रार्थना सभा का आयोजन किया जाता है। जुलुस भी निकला जाता है। 

क्रिसमस पर बच्चों का सबसे बड़ा आकर्षण केंद्र रहता है लाल और सफ़ेद कपड़े पहना हुआ सांताक्लॉस जो बच्चों के लिए ढेर सारे उपहार लेके आता है। सांताक्लॉस एक काल्पनिक किरदार है जिसे बच्चे बहोत पसंद करते है। 

ऐसा माना जाता है की सांताक्लॉस क्रिसमस के दिन स्वर्ग से आता है और बच्चों के लिए  उपहार देके चला जाता है। इसीलिए कुछ लोग सांताक्लॉस के कपडे पहनकर बच्चों  करने के लिए आते है। 

त्यौहार के दिन क्रिसमस ट्री भी बहोत मायने रखता है।  कुछ लोग ये ट्री घर के आंगन में सजाते है तो कुछ लोग घर के अंदर। क्रिसमस ट्री को सुशोभित किया जाता है। 

केक के बिना क्रिसमस का त्यौहार अधूरा है। हर घर में इस दिन केक काटा जाता है। घर पर आये मेहमानों को केक खिलाकर खुश किया जाता है। 

लोगों को एकसाथ जुड़े रखने में क्रिसमस त्यौहार का बड़ा महत्व है। बच्चों से लेकर बूढ़ों तक सभी लोग इस त्यौहार में एक दूसरे से मिलकर खुशियां बांटते है। 

Also Read : Essay on Navratri in hindi

Leave a Comment

Your email address will not be published.