An Autobiography of a Pen in hindi – कलम की आत्मकथा पर निबंध

An Autobiography of a Pen in hindi (कलम की आत्मकथा): मै आपसे ये नहीं पूछूंगा की आप मुझे पहचानते हो या नहीं। क्योंकि मै आपके के लिए नया नहीं हूँ। लेकिन हाँ, ये सवाल मुझे आने वाली पीढ़ी से पूछने की जरूरत पड सकती है। 

An Autobiography of a Pen in hindi (कलम की आत्मकथा)

फिर भी मैं अपना परिचय दे दूं। मैं 21 वीं सदी की कलम हूं। जी हां, 21 वीं सदी की एक कलम। मैं ऐसा क्यों कह रहा हूं? क्योंकि यह वह युग है जब मेरा उपयोग लगभग आधा हो गया है। एक कागज रहित दुनिया उभर रही है।

Also Read : क्रिसमस पर निबंध 

एक समय था जब एक घंटा भी मेरे बिना नहीं बीतता था। लोग मुझे अध्ययन करने के लिए, घरेलू सामानों की सूची लिखने के लिए, पत्र लिखने के लिए, कुछ कागजी कार्रवाई तैयार करने के लिए, एक आवेदन पत्र लिखने आदि के लिए उपयोग करते थे। मेरा उपयोग एक या दो के लिए सीमित नहीं था, लेकिन मैं कई तरीकों से काम करता था।

मैं बहुत खुश था कि मुझे इतने सारे लोगों द्वारा इस्तेमाल किया जा रहा था। मेरे आविष्कार का उद्देश्य सभी लोगों के जीवन को पूरा कर रहा था।

लोग मुझे छोटी डायरी के साथ हमेशा अपनी जेब में रखते थे। अब मेरी जगह एक मोबाइल ने ले ली है।

Also Read : मेरा प्रिय खेल क्रिकेट 

लेकिन जैसे-जैसे समय बीतता गया, चीजें बदल गईं। छात्रों ने नोट्स बनाते वक़्त , उन्हें लिखने के बजाय मोबाइल का उपयोग करना शुरू कर दिया।

वे आसान भंडारण के लिए पीडीएफ डाउनलोड करते हैं। अधिकांश लोग महत्वपूर्ण घटनाओं, बिंदुओं को नोट करने के लिए विभिन्न apps का उपयोग कर रहे हैं।

मै मानता हूँ की ये विधियाँ हर बार मेरा उपयोग करने से अधिक सुविधाजनक हैं। मुझे इनसे कोई शिकायत नहीं है। 

चूंकि इन विधियों को लागू करना अधिक आसान है, इसलिए उनका उपयोग किया जाना चाहिए। लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि आप मुझे इस हद तक उपेक्षित करें।

Also Read : पंडित जवाहरलाल नेहरू पर निबंध 

आज, वीडियो कॉलिंग की दुनिया में, एक पत्र लिखना एक सपने जैसा है। नई पीढ़ी के छोटे बच्चों को ये पता भी कि पत्र क्या है और इसे कैसे और क्यों लिखना है। ई-मेल और संदेश लिखना ये आजकल  एक दूसरे के साथ संवाद करने के modern तरीके हैं।

ज्यादातर स्कूल डिजिटल हो गए हैं।  ई स्कूल में छात्रों को स्कूल बैग नहीं ले जाने देते। वे सिर्फ पढ़ाने के लिए एक डिजिटल बोर्ड या एक स्क्रीन का उपयोग करते हैं। इसके अलावा, वे छात्रों से नोट्स और सभी लिखने की उम्मीद भी नहीं करते हैं।

कुछ परीक्षाएं ऑनलाइन भी आयोजित की जा रही हैं। बस आपका मोबाइल या लैपटॉप काम में है, इंटरनेट पर प्रश्नों को हल करें और परीक्षा समाप्त हो जाए।

एक समय था जब मेरे पास घर, कार्यालय बैग, जेब में एक उल्लेखनीय स्थान था। लेकिन अब मैं तुम्हारे घर के एक कोने में पड़ा रहता हूँ। कोई मेरी तरफ देख भी नहीं सकता।

Also Read : 10 lines on Mahatma Gandhi in hindi and English

अब मैं केवल स्कूल के समय और दस्तावेज़ पर हस्ताक्षर करने के लिए उपयोग किया जाता हूँ । लेकिन यह भी लंबे समय तक नहीं चलेगा। क्योंकि डिजिटल तकनीक से भी संकेत मिलते हैं। एक दिन जरूर आएगा जब मैं पूरी तरह से विलुप्त हो जाऊंगा।

अगली पीढ़ी के बच्चे पूछेंगे कि वास्तव में कलम का मतलब क्या है? यह कैसा दीखता है?

मैं आपके घर के वृद्ध लोगों की सराहना करना चाहूंगा क्योंकि वे अभी भी मेरा उपयोग करना पसंद करते हैं। वे उन्नत तकनीक के बजाय मुझे इस्तेमाल करना आसान समझते हैं।

मुझे वे दिन याद आते हैं। मुझे आपके साथ पहले की तरह काम करना पसंद है। लेकिन दुनिया इतनी तेजी से बदल रही है।

इस पीढ़ी के बच्चों को मेरे पुन: उपयोग की जिम्मेदारी लेनी चाहिए। उन्हें मेरे इस्तेमाल के लिए दूसरे लोगों को जागरूक करना चाहिए।

To read this same essay in English Click here.

Leave a Comment

Your email address will not be published.