Air Pollution Essay in Hindi: वायु सबसे महत्वपूर्ण प्राकृतिक संसाधनों में से एक है। इसका उपयोग सभी जीवित जीवों द्वारा विभिन्न प्रयोजनों के लिए किया जाता है। हवा का सबसे महत्वपूर्ण उपयोग यह है कि इसमें ऑक्सीजन होता है जिससे सभी जीवित प्राणी सांस लेते हैं।


Air Pollution Essay in Hindi

                                                   Air Pollution Essay in Hindi


श्वसन वह बुनियादी प्रक्रिया है जिसमें शरीर में हवा ली जाती है, फ़िल्टर कि जाती है, फेफड़ों में शुद्ध और अशुद्ध हवा का आदान-प्रदान किया जाता है और अशुद्ध हवा को बाहर निकाल दिया जाता है। लेकिन अगर यह हवा अशुद्ध हो तो कोई जीव कैसे सुरक्षित रहेगा?


वायु प्रदूषण और कुछ नहीं बल्कि वायु का दूषित होना है जो विभिन्न कारकों जैसे धूल, धुएं, जहरीली गैसों आदि के कारण होता है। इन्हें वायु प्रदूषक कहा जाता है।


ये वायु प्रदूषक ज्यादातर मानवीय गतिविधियों जैसे ईंधन के जलने, दहन, औद्योगीकरण, परमाणु विस्फोट, बम विस्फोट आदि से बनते हैं।


एयर कंडीशनर का उपयोग, फ्लोरोसेंट लाइट, प्लास्टिक बैग, जंगल की आग, पटाखे आदि वायु प्रदूषण के कुछ और कारण हैं।


वायु प्रदूषण का न केवल मानव शरीर पर बल्कि जानवरों के साथ-साथ पौधों पर भी बहुत खतरनाक प्रभाव पड़ता है। यह एक मूक हत्यारा है।


यह भी पढ़े : जवाहरलाल नेहरू पर निबंध 


मनुष्य श्वसन संबंधी विकारों, अस्थमा, सिरदर्द, आंखों में जलन, नाक और आंखों में सूजन आदि से पीड़ित होता है। कुछ मामलों में सीने में दर्द, थकान, ब्रेन स्ट्रोक भी देखा जाता है। न्यूुमोनिया, ब्रोंकाइटिस, हृदय रोग भी देखे जाते हैं।


वायु प्रदूषण से पौधों, सब्जियों, फूलों के साथ-साथ फलों को भी व्यापक नुकसान होता है। उनके रंध्र धूल से ढक जाते हैं जिसके परिणामस्वरूप गैसों के आदान-प्रदान में कमी आती है। पौधों की वृद्धि प्रभावित होती है। नेक्रोसिस यानी ऊतकों की क्षति भी देखी गई है।


इन सभी हानिकारक दुष्प्रभावों से छुटकारा पाने के लिए कदम उठाना बहोत आवश्यक कदम है। जिन विभिन्न तरीकों का पालन किया जा सकता है वे हैं:


सार्वजनिक परिवहन का उपयोग


उपयोग में न होने पर फ्लोरोसेंट लाइट बंद करना


चीजों का पुनर्चक्रण और पुन: उपयोग


प्लास्टिक बैग को ना कहना


जंगल की आग और धूम्रपान में कमी


हवा की स्थिति के बजाय पंखे का उपयोग करना


पटाखों के प्रयोग से बचना


वनीकरण


यह निबंध इंग्लिश में पढने के लिए यहाँ क्लिक करें। 

Post a Comment

We are happy to reply to your comments

Previous Post Next Post